Blood Pressure

रक्तदाब | Blood Pressure

अर्जुन छाल, गोरखमुंडी और मुलेठी तीनों अलग अलग मात्रा 50- 50 ग्राम इमामदस्ता या मिक्सी में कूट कर बारीक कर लें।बाद में इसके चूर्ण को एक शीशी या डिब्बे में रख लें।जैसे चाय बनाते हैं वैसे ही बनाये। चाय पत्ती न डालें।दूध और शक्कर डाल लें । दिन में दो या तीन बार चाय की तरह पियें।उपचार शुरू करने के पहले रक्तचाप की जाँच करालें । एक हफ्ते के बाद वापिस जाँच करा लें।निश्चित रूप से बीपी में बहुत लाभ मिलेगा।चूँकि ये चाय की तरह पिया जाता है तो दवा रक्त में मिलकर स्थाई आराम देती है एक बार स्थिर हो जाने पर लंबे समय तक उतार चढ़ाव नहीं होता ।
इसे बहुत से लोगों ने आजमाया है।परिणाम अच्छे आए हैं।
यह प्रयोग सभी प्रकार के ह्रदय (Heart)रोगों में सर्वोत्तम है।