Heart Blockage Symptoms and Treatment with Ayurveda |
2951
post-template-default,single,single-post,postid-2951,single-format-standard,bridge-core-2.8.4,pmpro-body-has-access,qodef-qi--no-touch,qi-addons-for-elementor-1.3,qode-page-transition-enabled,ajax_fade,page_not_loaded,,qode-theme-ver-26.8,qode-theme-bridge,disabled_footer_top,disabled_footer_bottom,qode_header_in_grid,elementor-default,elementor-kit-1289

Heart Blockage Symptoms and Treatment with Ayurveda

14 Heart Blockage Symptoms and Treatment with Ayurveda

Heart Blockage Symptoms and Treatment with Ayurveda

आज के तेज भागदौड़ भरी लाइफस्टाइल में ध्यान रहने जैसी महत्त्व पूर्ण चीज, हार्ट में ब्लॉकेज होना (heart blockage) एक बहुत ही गंभीर बीमारी है। इसमें दिल की धड़कन बहुत धीरे-धीरे चलने लगती है। हार्ट में ब्लॉकेज की समस्या किसी भी उम्र में हो सकती है, लेकिन यह मध्यावस्था में (30 वर्ष की उम्र के बाद) लोगों को होता है। देखा जाता है कि हार्ट में ब्लॉकेज होने पर लोग बहुत घबराने लगते हैं, पर वास्तव में, यह ऐसी बीमारी है जिसे गंभीरता पूर्वक निदान करने के जरुरत है, नाही घबराने की।



Heart Blockage Symptoms and Treatment with Ayurveda

क्या आप हार्ट ब्लॉकेज खोलने के घरेलू उपाय (ayurvedic treatment for heart blockage by Niramay Swasthyam) जान सकते हैं।

हार्ट ब्लॉकेज के लक्षण (Heart Blockage Symptoms),

ये हार्ट ब्लॉकेज के लक्षण हो सकते हैं-

  • बार-बार सिरदर्द होना,
  • चक्कर आना या बेहोश हो जाना,
  • छाती में दर्द होना,
  • सांस फूलना,
  • छोटी सांस आना,
  • काम करने पर थकान महसूस हो जाना,
  • अधिक थकान होना,
  • बेहोश होना,
  • गर्दन, ऊपरी पेट, जबड़े, गले या पीठ में दर्द होना,
  • अपने पैरों या हाथों में दर्द होना या सुन्न हो जाना,
  • कमजोरी या ठण्ड लगना।

हार्ट ब्लॉकेज के इन लक्षणों (heart blockage symptoms) को नजर-अंदाज नहीं करना चाहिए, क्योंकि ये लक्षण बाद में हार्ट-अटैक के लक्षण भी बन सकते हैं।

अब स्वस्थ रहना है, बड़ा आसान।

Niramay Swasthyam Best Ayurvedic Treatment Center for Heart Blockage Symptoms and Treatment with Ayurveda

Be Aware of Your diet for the prevention of heart blockage.
हार्ट ब्लॉकेज की रोकथाम के लिए अपने आहार के बारे में जागरूक रहें।

  • नमक का सेवन कम करें (Reduce salt intake): उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने के लिए नमक का सेवन कम करें।
  • संतृप्त / ट्रांस चरबी से बचें (Avoid saturated/transfat): खाने में तेल, डालडा, या घी के सेवन से बचें। इनका अधिक सेवन धमनियों पर एक परत के रूप में जम जाता है और रक्त प्रवाह को प्रभावित करता है।
  • शक्कर आदि का सेवन ना करें (Do not consume sugar etc): मिठास का सेवन शरीर में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बहुत बढ़ा सकता है। यह रक्त के थक्कों का कारण बन सकता है, या रक्त को गाढ़ा कर सकता है। यह शरीर के लिए घातक साबित होता है।

अब स्वस्थ रहना है, बड़ा आसान।

हार्ट अटैक से बचने के उपाय के लिए आपकी जीवनशैली ऐसी होनी चाहिएः-

  1. नियमित रूप से ध्यान करें (Meditate regularly)
  2. तनाव व चिंता ना करें – रोजाना 7-8 घण्टे की नींद लें तथा चिंता कम से कम करें।
  3. धूम्रपान ना करें – धूम्रपान का सेवन न करें क्योंकि यह सीधे हृदय की धमनियों को प्रभावित करता है।

अब स्वस्थ रहना है, बड़ा आसान।

निशुल्क नाड़ी परीक्षण कराये, International Awarded Vaidya Yogesh Vani के द्वारा,

रोगमुक्त रहिए, आइए और जुड़िए हमारी संस्था के ‘रोग मुक्ति अभियान’ में सहयोग दीजिए और तंदुरुस्त जीवन जीए।

“स्वस्थ भारत” campaign by NGO

ज्यादा जानकारी लीजिये +91 9825440570 संपर्क करके।

Niramay Swasthyam Best Ayurvedic Treatment Centre in Surat.


स्वस्थ रहे, मस्त रहे।

No Comments

Post A Comment