Uncategorized What are Constipation & Constipation Causes in Hindi 2021

What are Constipation & Constipation Causes in Hindi 2021


कब्ज क्यों होता है ? उसके लक्षण और उपाय।

Spread Awareness

What are Constipation & Constipation Causes in Hindi 2021

कब्ज क्या है? (What is Constipation in Hindi?)

आयुर्वेद के अनुसार, शरीर का संतुलन वात, पित्त, कफ दोषों पर निर्भर करता है। इनमें हुए असंतुलन के कारण शरीर रोगों से घिर जाता है। खान-पान एवं जीवनशैली में लापरवाही के कारण जब जठराग्नि मन्द हो जाती है, तथा आहार सही समय पर ठीक प्रकार से नहीं पचता। इससे शरीर के दोष असंतुलित तथा दूषित होकर रोग उत्पन्न करते हैं। कब्ज में मुख्यतः वात दोष की दुष्टि होती है, जिस कारण मल सूखा एवं कठोर हो जाता है। सही समय पर मलत्याग नहीं हो पाता।

कब्ज होने के कारण (Constipation Causes in Hindi)

कब्ज की बीमारी होने के कई कारण होते हैं, जो ये हैंः-

 

  • भोजन में रेशेदार आहार की कमी होना।
  • मैदे से बने एवं तले हुए मिर्च-मसालेदार भोजन का सेवन करना।
  • पानी कम पीना या तरल पदार्थों का सेवन कम करना।
  • समय पर भोजन ना करना।
  • रात में देर से भोजन करना।
  • देर रात तक जागने की आदत।
  • अधिक मात्रा में चाय, कॉफी, तंबाकू या सिगरेट आदि का सेवन करना।
  • भोजन पचे बिना ही दोबारा भोजन करना।
  • चिन्ता या तनावयुक्त जीवन जीना।
  • हार्मोन्स का असंतुलन या थायराइड की परेशानी होना।
  • अधिक मात्रा में या लम्बे तक दर्द निवारक दवाइयों का इस्तेमाल करना।

कब्ज के लक्षण (Constipation Symptoms in Hindi)

कब्ज की पहचान ये हैः-

  • कुंथन करने पर ही मलत्याग होना।
  • पेट में दर्द एवं भारीपन रहना।
  • पेट में गैस बनना।
  • मल का सख्त (कठोर) एवं सूखा होना।
  • सिर में दर्द रहना।
  • बिना श्रम के ही आलस्य बने रहना।
  • पिण्डिलियों में दर्द रहना।
  • मुंह से दुर्गन्ध आना।
  • कब्ज के कारण मुँह में छाले होना भी एक आम समस्या है।
  • त्वचा में मुँहासे या फुंसियाँ होना।

कब्ज के घरेलू इलाज के लिए अन्य घरेलू उपाय (Other Home Remedies to Cure Constipation in Hindi)

ये घरेलू उपाय भी कब्ज के इलाज में बहुत फायदा पहुंचाते हैं,

  • रोज 2 चम्मच गुड़ गर्म दूध के साथ लें।
  • दूध में सूखे अंजीर को उबाल कर खाएं, और दूध को पी लें।
  • रात में सोने से पहले एक चम्मच त्रिफला चूर्ण को गर्म पानी के साथ लें।
  • सुबह उठकर नींबू के रस में काला नमक मिलाकर सेवन करें।
  • रात के भोजन में पपीता का सेवन करें।
  • एक गिलास गर्म दूध में दो चम्मच देसी घी डालकर सोने से पहले पिएं।
  • दस ग्राम इसबगोल की भूसी को सुबह-शाम पानी के साथ पिएं।

कब्ज में परहेज (Avoid These in Constipation)

  • कब्ज के रोगी को दूध तथा पनीर का अधिक सेवन नहीं करना चाहिये।
  • मैदे से बनी चीजों को बिल्कुल ना खाएं।
  • अधिक तैलीय एवं मिर्च-मसालेदार वाले भोजन से दूर रहें।
  • कब्ज रोग में मुख्य रूप से वात को शान्त करने वाले आहार का सेवन करना चाहिये। शीतल गुण वाले आहार से बचना चाहिये। उष्ण गुण और अच्छे प्रकार पके हुए भोजन का सेवन करना चाहिये।

योगासन से करें कब्ज का इलाज (Yoga for Constipation)

आप योग की सहायता से भी पुरानी कब्ज का इलाज कर सकते हैं। कब्ज में लाभ पहुंचाने वाले योग ये हैंः-

  • पवन मुक्तासन
  • हलासन
  • अर्धमत्स्येन्द्रासन
  • मयूरासन
  • बालासन
  • सुप्तमत्स्येन्द्रासन

कब्ज की बीमारी में आपकी जीवनशैली (Your Lifestyle in Constipation)

कब्ज के इलाज में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका आपके जीवनशैली की होती है। अगर आप अपनी जीवनशैली में उचित बदलाव लाएं तो आसानी से कब्ज से छुटकारा पा सकते हैं। आइये जानते हैं कि आपकी जीवनशैली कैसी होनी चाहिए,

  • समय पर भोजन करें, तथा पहले किए हुए भोजन के पचने पर ही दूसरी बार भोजन करें।
  • रात में जागने की आदत को हमेशा के लिए छोड़ दें।
  • तनावमुक्त जीवन जीने की कोशिश करें।
  • योगासन करें।

Click here for YouTube Channel 

निरामय स्वास्थ्यम् (Best Ayurvedic Treatment Center, Niramay Swasthyam) के द्वारा वैद्य योगेश वाणिजी समाज में स्वास्थ्य की जागृति के लिए बहुत प्रयास कर रहे हैं। लोगों को स्वास्थ्य मिले उसके लिए कई निशुल्क प्रवृत्तियां भी शुरू की है। उसमें सबसे महत्वपूर्ण निशुल्क प्रवृत्ति निशुल्क रोग मुक्ति व्याख्यान है। इसके अलावा भी हर हफ्ते उनके द्वारा निशुल्क स्वास्थ्य केंद्र लिया जाता है। जिसका उद्देश्य यही है की हर मनुष्य स्वास्थ्य के बारे में जागृत हो, स्वस्थ रहने का विज्ञान समझे, और जो जीवनशैली अपनाएं उसकी वजह से उनके स्वास्थ्य में लाभ हो। क्योंकि स्वस्थ व्यक्ति ही स्वस्थ समाज बना सकता है और स्वस्थ समाज से ही स्वस्थ देश का निर्माण होता है। इसीलिए स्वास्थ्य प्राप्त करने के लिए निरामय स्वास्थ्यम् के द्वारा चलने वाले ऐसे निशुल्क स्वास्थ्य की प्रवृत्तियों का लाभ लीजिए और समाज में जागृति फैलाए।


स्वस्थ रहो मस्त रहो।


Spread Awareness

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *