सुवर्णप्राशन संस्कार कब और किसको दे? Suvarnaprashan Sanskar for Baby |
4414
post-template-default,single,single-post,postid-4414,single-format-standard,bridge-core-2.8.4,pmpro-body-has-access,qodef-qi--no-touch,qi-addons-for-elementor-1.3,qode-page-transition-enabled,ajax_fade,page_not_loaded,,qode-theme-ver-26.8,qode-theme-bridge,disabled_footer_top,disabled_footer_bottom,qode_header_in_grid,elementor-default,elementor-kit-1289

सुवर्णप्राशन संस्कार कब और किसको दे? Suvarnaprashan Sanskar for Baby

सुवर्णप्राशन संस्कार कब और किसको दे | SUVARNAPRASHAN SANSKAR FOR BABY at niramay swasthyam

सुवर्णप्राशन संस्कार कब और किसको दे? Suvarnaprashan Sanskar for Baby

हर सोमवार से शुक्रवार शाम 5 से 7 बजे तक 0 से 5 साल तक के बच्चो को निःशुल्क सुवर्णप्राशन पिलाया जायेगा

सुवर्णप्राशन संस्कार कब और किसको दे? SUVARNAPRASHAN SANSKAR FOR BABY

सुवर्णप्राशन यह हमारे 16 संस्कारो में से एक है।

हमारे यहाँ जब बालक का जन्म होता है तब उसको सोना या चांदी की शलाका(सली) से उसके जीभ पर शहद चटाने की या जीभ पर ॐ लिखने की एक परँपरा रही है।

यह परंपरा का मूल स्वरूप याने हमारा सुवर्णप्राशन संस्कार।

सुवर्ण की मात्रा चटाना यानि सुवर्णप्राशन। हम यह करते ही है पर हमें उसकी समझ नही है।

  • यह कैसे आया और क्यूँ आया?
  • इसका हेतु और परिणाम क्या है यह हमें पता नही था!!

सदीयो के बाद भी यह कैसे भी स्वरूप में टीकना यह कुछ कम बात नहीं है। उसके लिये हमारे आचार्योने कितना परिश्रम उठाया होगा, तब जाकर यह हमारे तक पहूँचा है।

पर यहाँ समझने की कभी हमनें कोशिश की, ना हि किसी ने समझाने का कष्ट लिया है।
यह सुवर्णप्राशन सुवर्ण के साथ साथ आयुर्वेद के कुछ औषध, गाय का घी और शहद के मिश्रण से बनाया जाता है। और यह जन्म के दिन से शुरु करके पूरी बाल्यावस्था या कम से कम छह महिने तक चटाना चाहिये। अगर यह हमसे छूट गया है तो बाल्यावस्था के भीतर यानि 12 साल की आयु तक कभी भी शुरु करके इसका लाभ ले सकते है।

यही हमारी परंपरा को पुष्टि देने के लिये ही बालक के नजदीकी लोग सोने के गहने या सोने की चीज ही भेंट करते है; शायद उस समय पर वो यही सुवर्णप्राशन ही भेंट करते होंगे।

सुवर्णप्राशन से क्या फायदा??

आयुर्वेद के बालरोग के ग्रंथ काश्यप संहिता के पुरस्कर्ता महर्षि काशयप ने सुवर्णप्राशन के गुणों का निम्न रूप से निरूपण किया है..

सुवर्णप्राशन हि एतत मेधाग्निबलवर्धनम्।
आयुष्यं मंगलमं पुण्यं वृष्यं ग्रहापहम्॥
मासात् परममेधावी क्याधिभिर्न च धृष्यते।
षडभिर्मासै: श्रुतधर: सुवर्णप्राशनाद् भवेत्॥
सूत्रस्थानम्, काश्यपसंहिता

अर्थात्,
सुवर्णप्राशन मेधा (बुद्धि), अग्नि (पाचन अग्नि) और बल बढानेवाला है। यह आयुष्यप्रद, कल्याणकारक, पुण्यकारक, वृष्य, वर्ण्य (शरीर के वर्णको तेजस्वी बनाने वाला) और ग्रहपीडा को दूर करनेवाला है. सुवर्णप्राशन के नित्य सेवन से बालक एक मास मं मेधायुक्त बनता है और बालक की भिन्न भिन्न रोगो से रक्षा होती है। वह छह मास में श्रुतधर (सुना हुआ सब याद रखनेवाला) बनता है, अर्थात उसकी स्मरणशक्त्ति अतिशय बढती है।
यह सुवर्णप्राशन पुष्यनक्षत्र में ही उत्तम प्रकार की औषधो के चयन से ही बनता है। पुष्यनक्षत्रमें सुवर्ण और औषध पर नक्षत्र का एक विशेष प्रभाव रहता है।

यह सुवर्णप्राशन से रोगप्रतिकार क्षमता बढने के कारण उसको वायरल और बेक्टेरियल इंफेक्शन से बचाया जा सकता है।

यह स्मरण शक्ति बढाने के साथ साथ बालक की पाचन शक्ति भी बढाता है जिसके कारण बालक पुष्ट और बलवान बनता है।

यह शरीर के वर्ण को निखारता भी है।

ईसलिये अगर किसी बालक को जन्म से 12 साल की आयु तक सुवर्णप्राशन देते है तो वह उत्तम मेधायुक्त बनता है।
और कोई भी बिमारी उसे जल्दी छू नही सकती।
छह मास तक का प्रयोग :-
सही मात्रा और औषध से बना हुआ सुवर्णप्राशन अगर किसी भी बालक को छह मास तक नियमित रूप से दिया जाये तो वह “श्रुतधर” मतलब कि एक बार सुना हुआ उसको याद रह जाता है। अगर हम इसको आज के परिप्रेक्ष्य में तो उसकी याददास्त अवश्य ही बढती है। और स्वस्थ और तेजस्वी भारत के निर्माण में यह संस्कार हमारे लिये एक बहुत ही महतवपूर्ण बात है। इसके लिये 12 साल तक की उम्र के किसी बालक को कभी भी शुरु करवा सकते है। और कम से कम छह महिने तक इसका सेवन करवाना चाहिये। और इसके लिये पुष्यनक्षत्र में ही तैयार करना बहुत ही लाभप्रद रहता है।

यह नंबर 9825440570 पर मैसेज या कॉल करके सुवर्णप्राशन या उसकी की जानकारी  के लिए अपना नाम दर्ज करवा सकते हैं।

स्वस्थ रहो, मस्त रहो।

मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य समस्याओं का निदान पाइए निरामय स्वास्थ्यम् में, International Awarded Vaidya Yogesh Vani (Divine Healer) के द्वारा,

अब स्वस्थ रहना है, बड़ा आसान।

आयुर्वेद और प्राकृतिक दवा से जीवन को उच्चतम बनाने के लिए

निरामय स्वास्थ्यम् को Follow करें Instagram Id niramayswasthyam

अपने घर को स्वस्थ बनाए, आयुर्वेद को अपनाएं।

ज्यादा जानकारी के लिए संपर्क करे +91 98254 40570

🏡 हमारी संस्था राजीव दीक्षतजी प्रेरित लक्ष्मी नारायण चेरीटेबल ट्रस्ट जो आरोग्य प्रचारक संस्था है। हमारी संस्था दो प्रकार की अभियान चला रही है:

1) आरोग्य जागृति अभियान

2) रोग मुक्ति अभियान

ज्यादा जानकारी लीजिये +91 9825440570 संपर्क करके।

Click here for YouTube Channel

सही जीवन शैली कहां से पता चलेगी?

निरामय स्वास्थ्यम् (Best Ayurvedic Treatment Center, Niramay Swasthyam) के द्वारा वैद्य योगेश वाणिजी समाज में स्वास्थ्य की जागृति के लिए बहुत प्रयास कर रहे हैं।

लोगों को स्वास्थ्य मिले उसके लिए कई निशुल्क प्रवृत्तियां भी शुरू की है। उसमें सबसे महत्वपूर्ण निशुल्क प्रवृत्ति निशुल्क रोग मुक्ति व्याख्यान है। इसके  अलावा भी हर हफ्ते उनके द्वारा निशुल्क स्वास्थ्य केंद्र लिया जाता है। जिसका उद्देश्य यही है की हर मनुष्य स्वास्थ्य के बारे में जागृत हो, स्वस्थ रहने का विज्ञान समझे, और जो जीवनशैली अपनाएं उसकी वजह से उनके स्वास्थ्य में लाभ हो। क्योंकि स्वस्थ व्यक्ति ही स्वस्थ समाज बना सकता है और स्वस्थ समाज से ही स्वस्थ देश का निर्माण होता है। इसीलिए स्वास्थ्य प्राप्त करने के लिए निरामय स्वास्थ्यम् के द्वारा चलने वाले ऐसे निशुल्क स्वास्थ्य की प्रवृत्तियों का लाभ लीजिए और समाज में जागृति फैलाए।

ज्यादा जानकारी के लिए संपर्क करे +91 98254 40570

अब स्वस्थ रहना है, बड़ा आसान।

Niramay Swasthyam​​​ | Best Ayurvedic Treatment Center | Vaidya Yogesh Vani | Divine Healer


स्वस्थ रहो मस्त रहो

Niramay Swasthyam​​​ Best Ayurvedic Treatment Center


No Comments

Post A Comment