Uncategorized 10 Main Reason Must Know, Why!! Gaining Weight(Obesity) At Home

10 Main Reason Must Know, Why!! Gaining Weight(Obesity) At Home


10 Main Reason Must Know, why!! Gaining Weight(Obesity) At Home by Niramay Swasthyam

वज़न बढ़ने के 10 प्रमुख कारण

10 Main Reason Must Know, Why!! Gaining Weight(Obesity) At Home

आजकल बढ़ता हुआ वजन एक आम बात हो गई है। बूढ़े, जवान से लेकर बच्चों मैं भी मोटापे की समस्या बहुत ही तेजी से बढ़ रही है। अगर इसका समाधान ना किया जाए तो यह मोटापा कई रोगों को आमंत्रित करता है। सही समय पर जागृत होना ही इसका समाधान निकल सकता है। क्योंकि एक बार जब मोटापे की समस्या बढ़ जाती है उसके बाद उसको कम करने के लिए, उसको जीवन से मिटाने के लिए वह बहुत मेहनत भी करवाता है। कई लोग थक जाते हैं, बहुत पैसे लगाते हैं परंतु फिर भी मोटापे से दूर नहीं जा पाते। और यह मोटापा हमारी सुंदरता भी छीन लेता है। अगर सही तरीका अपनाया जाए सही चीजों को जीवन में लाया जाए तो आसानी से इस मोटापे से भी छुटकारा पा लिया जा सकता है। आयुर्वेद के द्वारा, प्राकृतिक डाइट के द्वारा आसानी से मोटापे को मिटाया जा सकता है।

उसे हम बाद में देखेंगे पर पहले वजन बढ़ने के मुख्य कारण क्या है? इसे देखते हैं। क्योंकि अगर कारण पता है तो उसको भी रोक कर हम अच्छा सर कर सकते हैं।

वज़न बढ़ने के 10 प्रमुख कारण

  1. खान–पान: Weight बढ़ने का सबसे प्रमुख कारण होता है हमारा खान-पान. यदि हमारे खाने में कैलोरी की मात्र अधिक होगी तो वज़न बढ़ने के chances  ज्यादा हो जाते हैं. अधिक तला-भुना , fast-food, देशी घी, cold-drink  आदि पीने से शरीर में ज़रुरत से ज्यादा calories इकठ्ठा हो जाती  हैं जिसे हम बिना extra effort के burn नहीं कर पाते और नतीजा हमारे बढे हुए वज़न के रूप में दिखाई देता है. यदि आप इस बात की जानकारी रखें कि आपके शरीर को हर दिन कितने कैलोरी की आवश्यकता है और उतना ही consume करें तो आपका weight  नहीं बढेगा.
  2. Inactive होना: अगर आपकी दिनचर्या ऐसी है कि आपको ज्यादा हाथ-पाँव नहीं हिलाने पड़ते तो आपका weight बढ़ना लगभग तय है. ख़ास तौर पर जो लोग घर में ही रहते हैं या दिन भर कुर्सी पर बैठ कर ही काम करते हैं उन्हें जान-बूझ कर अपनी daily-life  में कुछ physical activity involve  करनी चाहिए. जैसे कि आप lift  की जगह सीढ़ियों का प्रयोग करें, अपने interest का कोई खेल खेलें , जैसे कि badminton, table-tennis, इत्यादि. यदि आप एक treadmill या एक gym cycle afford  कर सकें और उसे नियमित रूप से प्रयोग करें तो काफी लाभदायक होगा. वैसे सबसे सस्ता और सरल उपाय है कि आप रोज़ कुछ देर टहलने की आदत डाल लें.
  3. अनुवांशिक(Genetics) कारण: यदि आपके माता-पिता में से किसी एक का  भी  वज़न बहुत ज्यादा है तो आपका वज़न भी ज्यादा होने की सम्भावना बढ़ जाती है. इसके आलावा genetics का असर आपको कितनी भूख लगती है, आपके शरीर में कितना far और muscle है , पर भी पड़ता है. यह व्यक्ति के metabolic rate और उसका शरीर inactive होने पर कितनी कैलोरी जलाता है इस पर भी प्रभाव डालता है.
  4. Age: उम्र के साथ weight का बढ़ना एक स्वाभाविक प्रक्रिया है, ऐसा इसलिए होता है क्योंकि जैसे जैसे age बढती है हमारी मान्श्पेशियाँ fat में convert होती जाती हैं. Fat की मात्र बढ़ने के कारण diabetes और hypertension होने का खतरा बढ़ जाता है. उम्र बढ़ने के साथ साथ हमारी मेटाबोलिस्म में भी कमी आ जाती है , इस वजह से औरतों में वज़न बढ़ने की सम्भावना बढ़ जाती है.
  5. Gender: आपका स्त्री या पुरुष होना भी आपके weight पर असर डालता है.आमतौर पर स्त्रीयां पुरुषों से कम calories use करती हैं , इसलिए उनका वज़न बढ़ने की सम्भावना ज्यादा होती है. स्त्रीयों के body में fat  की मात्रा पुरुषों की अपेक्षा अधिक होती है. एक normal weight की स्वस्थ्य स्त्री के शरीर में 25% fat content होता है जबकि ऐसे ही  एक पुरुष में यह मात्र सिर्फ 15%  होती है.
  6. मनोवैज्ञानिक कारण: कई बार weight बढ़ने का कारण psychological होता है. Emotional problems, या depression की वजह से व्यक्ति ज्यादा खाने-पीने लगता है.जिस वजह से वज़न बढ़ जाता है.
  7. गर्भावस्था: गर्भावस्था के दौरान weight का बढ़ना एक सामान्य प्रक्रिया है. आमतौर पर किसी महिला का वज़न 5 से  10 किलो तक बढ़ जाता है, जो कि शिशु कप पोषण पहुंचाने के लिए ज़रूरी है.
  8. दवाईयां: कुछ ख़ास तरह की दवाईयां आपका weight बढ़ा सकती हैं. जैसे कि antidepressants या  corticosteroids. Birth Control pills खाने से भी वज़न ढाई किलो तक बढ़ सकता है.
  9. बीमारी: बीमारी में भी weight बढ़ सकता है, क्योंकि इस दौरान इंसान की गतिविधियाँ बहुत कम हो जाती हैं, और body में fat बढ़ सकता है.
  10. Smoking छोड़ने पर: सिग्रेट पीना छोड़ने के बाद व्यक्ति का वज़न 3-4 किलो तक बढ़ सकता है. पर smoking quit करने पर होने वाले फायदे इसकी अपेक्षा कहीं अधिक हैं, इसलिए इसे छोड़ने में ही भलाई है

इसी तरह और रोगों की जानकारी के लिए और अपने जीवन की कोई भी समस्याओं को हल करने के लिए निरामय स्वास्थ्यम् के द्वारा जो आरोग्य जागृति और रोग मुक्ति अभियान चल रहा है उसका भाग बने। और निशुल्क नाड़ी परीक्षण के द्वारा नेशनल और इंटरनेशनल अवॉर्ड से सम्मानित वैद्य योगेश वाणि जी के द्वारा अपने रोगों का आयुर्वेद और प्राकृतिक चिकित्सा से उपचार करें और खुद को, परिवार को और समाज को स्वास्थ्य प्रदान करें।

रोग आने के बाद इलाज कराना मजबूरी है, परंतु रोग ना आए उसके लिए नाड़ी परीक्षण जैसा कदम उठाना और स्वास्थ्य के लिए जागृत होना यह समझदारी है।

और अपना अनुभव साझा करना न भूलें और नीचे टिप्पणी अनुभाग में एक टिप्पणी छोड़ें।

Click here for YouTube Channel

सही जीवन शैली कहां से पता चलेगी?

निरामय स्वास्थ्यम् (Best Ayurvedic Treatment Center, Niramay Swasthyam) के द्वारा वैद्य योगेश वाणिजी समाज में स्वास्थ्य की जागृति के लिए बहुत प्रयास कर रहे हैं। (संपर्क नंबर – 9825440570)

लोगों को स्वास्थ्य मिले उसके लिए कई निशुल्क प्रवृत्तियां भी शुरू की है। उसमें सबसे महत्वपूर्ण निशुल्क प्रवृत्ति निशुल्क रोग मुक्ति व्याख्यान है। इसके अलावा भी हर हफ्ते उनके द्वारा निशुल्क स्वास्थ्य केंद्र लिया जाता है। जिसका उद्देश्य यही है की हर मनुष्य स्वास्थ्य के बारे में जागृत हो, स्वस्थ रहने का विज्ञान समझे, और जो जीवनशैली अपनाएं उसकी वजह से उनके स्वास्थ्य में लाभ हो। क्योंकि स्वस्थ व्यक्ति ही स्वस्थ समाज बना सकता है और स्वस्थ समाज से ही स्वस्थ देश का निर्माण होता है। इसीलिए स्वास्थ्य प्राप्त करने के लिए निरामय स्वास्थ्यम् के द्वारा चलने वाले ऐसे निशुल्क स्वास्थ्य की प्रवृत्तियों का लाभ लीजिए और समाज में जागृति फैलाए।

ज्यादा जानकारी के लिए संपर्क करे +91 98254 40570

अब स्वस्थ रहना है, बड़ा आसान।

स्वस्थ रहो मस्त रहो


Niramay Swasthyam​​​ Best Ayurvedic Treatment Center

स्वस्थ रहो मस्त रहो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *