Uncategorized Most Powerful 4 Pranayama Techniques for respiration, Part 1

Most Powerful 4 Pranayama Techniques for respiration, Part 1


26 श्वसन के लिए सबसे शक्तिशाली 4 प्राणायाम तकनीक, भाग 1

श्वास की शक्ति: 4 प्राणायाम तकनीक अभ्यास के लायक Part 1

Most Powerful 4 Pranayama Techniques for respiration, Part 1

श्वास एक ऐसी चीज है जिसे हम दैनिक आधार पर करते हैं। शरीर, एक जीवित अवस्था में, अनायास सांस लेता है कि क्या हम जाग रहे हैं, सो रहे हैं, या सक्रिय रूप से व्यायाम कर रहे हैं। श्वास जीवित है। यह जीवन का एक महत्वपूर्ण कार्य है।

योग में, हम इसे प्राणायाम के रूप में संदर्भित करते हैं।

प्राण एक संस्कृत शब्द है जिसका अर्थ है जीवन शक्ति और अयामा का अर्थ है विस्तार या खिंचाव। इस प्रकार, “प्राणायाम” शब्द जीवन शक्ति के नियंत्रण में अनुवाद करता है। इसे सांस के विस्तार के रूप में भी जाना जाता है। हमारे शरीर की हर कोशिका को ठीक से काम करने के लिए ऑक्सीजन की आवश्यकता होती है। इसलिए यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि अनुसंधान से पता चलता है कि नियंत्रित श्वास का नियमित अभ्यास शरीर पर तनाव के प्रभाव को कम कर सकता है और समग्र शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य में वृद्धि कर सकता है।

कभी ध्यान दें कि एक साधारण आह एक लंबे दिन के अंत में कितनी सुखद हो सकती है? साँस लेने की विभिन्न तकनीकें हैं जो तनाव को कम करने, पाचन में सहायता, नींद में सुधार और आपको शांत करने के लिए जानी जाती हैं। यहाँ अभ्यास के लायक चार प्राणायाम अभ्यास और उन्हें करने के लिए सबसे फायदेमंद समय पर निर्देश दिए गए हैं।

  • अनुलोम विलोम

अनुलोम विलोम, जिसे वैकल्पिक नथुने की श्वास के रूप में भी जाना जाता है, एक बहुत ही सुकून देने वाला संतुलन है, जिसका उपयोग तंत्रिका तंत्र (nervous system) को शांत करने और रात की नींद में सहायता करने के लिए किया जाता है। शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा में वृद्धि करके, यह माना जाता है कि यह सांस रक्त को शुद्ध भी कर सकती है, मन को शांत कर सकती है, तनाव को कम कर सकती है और एकाग्रता को बढ़ावा दे सकती है।

यह कैसे करें:

अनुलोम विलोम को बैठे या लेटे हुए किया जा सकता है। शुरू करने के लिए, अपने फेफड़ों से सभी हवा को खाली करें। अपने प्रमुख हाथ के अंगूठे (thumb) का उपयोग करके, अपने बाएं नथुने के माध्यम से अपने दाहिने नथुने और श्वास को रोकें। अपने पेट में साँस लेना सुनिश्चित करें, न कि आपकी छाती। एक बार जब आप सांस से भर जाते हैं, तो अपने बाएं नथुने को उसी हाथ की अनामिका (ring finger) से सील करें, अपने दाहिने नथुने को बंद रखें, और एक पल के लिए सांस को रोककर रखें। फिर अपने दाहिने नथुने के माध्यम से अपना अंगूठा छोड़ें और साँस छोड़ें। दाहिनी ओर से सभी सांस बाहर निकालना सुनिश्चित करें और उसी पक्ष के माध्यम से फिर से साँस लेने से पहले रुकें। दाईं ओर स्थित होने और बाईं ओर से बाहर निकलने पर दोनों नासिका छिद्रों को सील करें। सांस के एक पूरे चक्र में दोनों नथनों के माध्यम से साँस लेना और साँस छोड़ना शामिल है। यदि आप अभी शुरू कर रहे हैं, तो आप चार से आठ की गिनती के लिए अपनी सांस रोककर, चार-गिनती की श्वास कर सकते हैं, फिर चार गिनती के लिए साँस छोड़ते हैं। दस चक्रों तक प्रदर्शन करें और देखें कि आपका शरीर कैसे प्रतिक्रिया करता है। आप अपने मन और शरीर दोनों में अधिक आराम और शांति महसूस कर सकते हैं।

इसे कब करें:

अनुलोम विलोम एक शांत, सुखदायक साँस है जो दिन के किसी भी समय किया जा सकता है। इस तकनीक का अभ्यास करने का प्रयास करें जब आप चिंतित, घबराए हुए या सोते समय परेशानी महसूस कर रहे हों।

  • कपालभाती प्राणायाम

कपालभाति का अर्थ है खोपड़ी की चमक। यह एक प्राणायाम व्यायाम के साथ-साथ एक आंतरिक क्रिया, या सफाई तकनीक है। कपालभाति के चिकित्सकों का मानना ​​है कि यह श्वास वायु मार्ग में स्पष्ट बलगम, जमाव को कम करने, सूजन को कम करने और फेफड़ों की क्षमता में सुधार करने में मदद करेगा। कपालभाती एक स्फूर्तिदायक साँस है जो शरीर में गर्मी का निर्माण कर सकती है।

यह कैसे करें:

एक लंबी, सीधी रीढ़ के साथ एक आरामदायक सीट पर बैठना शुरू करें, और पूरी तरह से साँस छोड़ें। संक्षेप में दोनों नासिका छिद्रों के माध्यम से, फिर अपनी नाभि को अपनी रीढ़ की ओर खींचते हुए तेजी से साँस छोड़ें (फिर अपनी नाक से बाहर)। साँस छोड़ना कम और जल्दी है, लेकिन बहुत सक्रिय है, जबकि साँस लेना छोटा और निष्क्रिय है। फिर से, अपनी नाभि को खींचे जैसे कि आप साँस छोड़ते हैं और इसे साँस लेना पर नरम करते हैं। 30 में से एक राउंड (अपने साँस छोड़ना) और बीच में कुछ गहरी साँस के साथ एक मिनट के लिए आराम करो। बार-बार। यदि यह कठिन लगता है, तो 15 से शुरू करें और धीरे-धीरे अपने तरीके से काम करें।

यह कब करें:

यदि आप चिड़चिड़ा या सुस्त महसूस कर रहे हैं तो कपालभाती सुबह करना बहुत अच्छा है। आप इसे तब भी आजमा सकते हैं, जब आप भीड़ या फूला हुआ महसूस कर रहे हों, लेकिन इसे भरे हुए पेट पर आज़माएं नहीं। यदि आप गर्भवती हैं, या रक्तचाप की समस्या या दिल की स्थिति से पीड़ित हैं, तो इस तकनीक से बचें।

श्वास हम मनुष्यों के रूप में सबसे प्राकृतिक चीजों में से एक है।

यह एक उपहार और एक बहुत शक्तिशाली उपकरण है जो हमें हमारे जीवन में अधिक आसानी और संतुलन बनाने में सक्षम कर सकता है। सांस पर ध्यान केंद्रित करने के लिए समय निकालना हमें दैनिक तनावों, शारीरिक लक्षणों और भावनाओं को ध्यान में रखने से रोकता है। यह उस क्षण में है जहां हम सांस पर ध्यान केंद्रित करते हैं कि हम एक तटस्थ स्थिति में लौट सकते हैं, स्पष्टता प्राप्त कर सकते हैं, कायाकल्प महसूस कर सकते हैं, और कल्याण की समग्र भावना को बढ़ा सकते हैं। प्राणायाम अभ्यास को अपनी दिनचर्या में आमंत्रित करने के ये कुछ अद्भुत कारण हैं।

शुरू करने के लिए उपयोगी सुझाव,

आप ही फैन्सला करें,

  1. यदि आपको कोई असुविधा या आलस्य महसूस होता है, तो तुरंत रुकें और सामान्य श्वास पर वापस लौटें। मार्गदर्शन और पर्यवेक्षण के लिए एक प्रशिक्षक से परामर्श करें।
  2. कभी भी अपनी सांस को रोकें या प्रतिबंधित न करें। सांस की गुणवत्ता से समझौता न करें। सबसे अच्छा है कि आप कर सकते हैं। जितना अधिक आप अभ्यास करेंगे, उतने लंबे समय तक आप अभ्यास करने में सक्षम होंगे, और अंततः, आप अपनी फेफड़ों की क्षमता का अधिक उपयोग कर पाएंगे।
  3. धैर्य और अभ्यास। प्राणायाम बहुत सावधानी और जागरूकता के साथ किया जाना चाहिए। यात्रा पर ध्यान केंद्रित करने की कोशिश करें, न कि गंतव्य पर! समय के साथ, आप अभ्यास के लाभों को नोटिस करना शुरू कर देंगे।
  4. एहतियात। यदि आप गर्भवती हैं, या मधुमेह, उच्च या निम्न रक्तचाप, हृदय की स्थिति, मिर्गी, या चक्कर से पीड़ित हैं, तो इनमें से कोई भी श्वास व्यायाम करने से पहले अपने स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता से परामर्श करें।

Click here for YouTube Channel 

सही जीवन शैली कहां से पता चलेगी?

निरामय स्वास्थ्यम् (Best Ayurvedic Treatment Center, Niramay Swasthyam) के द्वारा वैद्य योगेश वाणिजी समाज में स्वास्थ्य की जागृति के लिए बहुत प्रयास कर रहे हैं।

लोगों को स्वास्थ्य मिले उसके लिए कई निशुल्क प्रवृत्तियां भी शुरू की है। उसमें सबसे महत्वपूर्ण निशुल्क प्रवृत्ति निशुल्क रोग मुक्ति व्याख्यान है। इसके अलावा भी हर हफ्ते उनके द्वारा निशुल्क स्वास्थ्य केंद्र लिया जाता है। जिसका उद्देश्य यही है की हर मनुष्य स्वास्थ्य के बारे में जागृत हो, स्वस्थ रहने का विज्ञान समझे, और जो जीवनशैली अपनाएं उसकी वजह से उनके स्वास्थ्य में लाभ हो। क्योंकि स्वस्थ व्यक्ति ही स्वस्थ समाज बना सकता है और स्वस्थ समाज से ही स्वस्थ देश का निर्माण होता है। इसीलिए स्वास्थ्य प्राप्त करने के लिए निरामय स्वास्थ्यम् के द्वारा चलने वाले ऐसे निशुल्क स्वास्थ्य की प्रवृत्तियों का लाभ लीजिए और समाज में जागृति फैलाए।

ज्यादा जानकारी के लिए संपर्क करे +91 98254 40570

अब स्वस्थ रहना है, बड़ा आसान।

Niramay Swasthyam​​​ Best Ayurvedic Treatment Center


स्वस्थ रहो मस्त रहो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *